कबीर दास के दोहे अर्थ सहित

कबीर दास के दोहे, जो आपका जीवन बदल देंगे | हिन्दी अर्थ सहित

यहाँ पर कबीर दास के दोहे अर्थ सहित बताएं जा रहे हैं जिन्हें अगर आप अपने जीवन में उतारते हैं | तो यह कबीर दास के दोहे आपको भक्ति के मार्ग पर प्रसक्त करेंगे |

Read More
रुद्राक्ष दीक्षा / Rudraksh Diksha

रुद्राक्ष दीक्षा (Rudraksha Diksha) आते ही करें ये जरूरी काम | सम्पूर्ण जानकारी

रुद्राक्ष दीक्षा (Rudraksha Diksha), हर महाशिवरात्रि के बाद सद्गुरु (Sadhguru) एवम ईशा फाउंडेशन (Isha Foundation) द्वारा लाखों की संख्या में निशुल्क भेंट की जाती है |

Read More
निर्जला एकादशी व्रत( Nirjala Ekadashi)

Nirjala Ekadashi | निर्जला एकादशी क्या है? जाने व्रत के जरूरी नियम 

निर्जला एकादशी (Nirjala Ekadashi) एक महत्वपूर्ण हिन्दू त्योहार है, जिसे भारत में मनाया जाता है। इस दिन विशेष रूप से निर्जला व्रत रखा जाता है, जिसमें पूरे दिन

Read More
रुद्राक्ष के नियम

जाने क्या है रुद्राक्ष पहनने के बाद के सात जरूरी नियम

अगर आप रुद्राक्ष धारण करते हैं तो आपको रुद्राक्ष पहनने के बाद के सात नियम अवश्य पता होना चाहिए | जो कि ये हैं – 1 कभी अपने रुद्राक्ष को किसी केमिकल के

Read More
Supreme God in Hinduism

हिन्दू धर्म में कौन है सबसे बड़ा भगवान | Supreme God in Hinduism

Supreme God in Hinduism | हिन्दू धर्म में कई भगवानों की मान्यता है लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं की इनमें सबसे बडा भगवान कौन है | मुख्यत: तीन भगवानों को सबसे बड़ा…

Read More
WhatsApp Image 2023 05 14 at 2.51.39 PM e1684072341667

Bhagavad Gita 2.63 || अध्याय ०२ , श्लोक ६३  – श्रीमद्भगवत गीता 

Bhagavad Gita 2.63 || क्रोध से भ्रम पैदा होता है , भ्रम से बुद्धि भ्रष्ट होती है| जब बुद्धि भ्रष्ट होती है तब…..  

Read More
Bhagavad Gita 2.15 || अध्याय ०२ , श्लोक १ ५ – श्रीमद्भगवत गीता

Bhagavad Gita 2.15 || अध्याय ०२ , श्लोक १ ५  – श्रीमद्भगवत गीता

Bhagavad Gita 2.15 || हे अर्जुन ! जो पुरुष सुख तथा दु;ख मे विचलित नहीं होता और इन दोनों मे समभाव रखता है, वह…..

Read More
Bhagavad Gita 4.13

Bhagavad Gita 4.13 || अध्याय ०४ , श्लोक १३ – भगवद गीता

Bhagavad Gita 4.13 || प्रकृति के तीनों गुणों (सत्व ,रज ,तम )और उनसे सम्बद्ध कर्म के अनुसार मेरे द्वारा मानव समाज के चार विभाग (ब्राहमण ,वैश्य ,क्षत्रिय ,शूद्र ) रचे गए…

Read More
bhagvad gita 3.6

Bhagavad Gita 3.6 || अध्याय ०३, श्लोक ०६ – भगवद गीता

Bhagavad Gita 3.6 ||` भगवान श्रीकृष्ण अर्जुन से कहते हैं कि जो व्यक्ति अपनी इन्द्रियों को मन के द्वारा नियंत्रित करता है और कर्म योग का आचरण करता है, वही सर्वोत्तम है। इसका अर्थ है कि हम अपनी इन्द्रियों को…

Read More
पुष्पक विमान

वैज्ञानिकों ने खोजा रावण के पुष्पक विमान का यह सच | Scientific Truth behind Ravan Pushpak Viman in Ramayan

हिंदू धर्म (Hinduism) के सबसे विख्यात ग्रंथ रामायण (Ramayan) में एक ऐसे पुष्पक विमान (Pushpak Viman) के बारे में बात की गई है जो की रावण (Ravana) के पास था

Read More