Rudraksha : आपके लिए कितने काम का यह दुर्लभ रुद्राक्ष

2 Mukhi Rudraksha

2 मुखी रुद्राक्ष ( 2 Mukhi Rudraksha ) सम्पूर्ण जानकारी –

2 मुखी रुद्राक्ष  ( 2 Mukhi Rudraksha ) के बारे में सदगुरु कहते हैं की यह रुद्राक्ष, पति पत्नी, दोनो के लिए धारण करना बहुत ही लाभकारी है| इससे संबंधों की मिठास बनी रहती है और आपका टकराव कम होगा | आज हम आपको इसी 2 मुखी रुद्राक्ष  ( 2 Mukhi Rudraksha ) के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं, और सिर्फ 2 मुखी रुद्राक्ष  ( 2 Mukhi Rudraksha ) के बारे में ही नहीं, आगे आने वाली पोस्ट में हम आपको अन्य रुद्राक्ष के बारे में भी विस्तार से जानकारी देंगे|

………………………………………………………………………………

2 मुखी रुद्राक्ष ( 2 Mukhi Rudraksha ) भगवान शिव के अर्ध नरीश्वर रूप का प्रतीक है| जो की भगवान शिव और मां शक्ति की एक- रुपता को दर्शाता है| यह रूप दर्शाता है की पति पत्नी एक ही शरीर के दो अलग अलग हिस्से हैं, जहां दोनों का एक समान अधिकार है|

इसलिए यह रुद्राक्ष वैवाहिक जीवन में भावनात्मक स्थिरता और शांति लाता है| इससे पति पत्नी के बीच समझ बढ़ती है, वैवाहिक जीवन में सक्रियता बढ़ती है, संबंध मजबूत होते हैं और फलस्वरूप सुख में वृद्धि होती है|

अगर आपक विवाह नहीं हुआ है तो आप 2 मुखी रुद्राक्ष ( 2 Mukhi Rudraksha ) धारण कर सकते हैं क्योंकि यह मनुष्य की पुरुष प्रकृति और स्त्री प्रकृति के मध्य संतुलन बनाए रखता है|

पुरुष प्रकृति अर्थात हमारी वह प्रकृति जो हमें बल देती है, नेतृत्व करने की क्षमता देती है और कई मौकों पर अगर नियंत्रण से बाहर हो जाए तो हमें आक्रमक और क्रोधित बनाती है|

इसके विपरित मनुष्य की स्त्री प्रकृति उसे प्रेममयी  भावुक और शांत बनाती है| यह दोनो ही प्रकृति अलग -अलग अनुपात में हर एक मनुष्य में होती हैं चाहें आप एक नर हो या नारी| 2 मुखी रुद्राक्ष ( 2 Mukhi Rudraksha ) आपकी इन्हीं दो प्रकृति के मध्य संतुलन बना कर आपको तनाव, भय और अवसाद से मुक्त रखता है |

2 मुखी रुद्राक्ष (2 mukhi rudraksha) कहां से लें?

2 मुखी रुद्राक्ष ( 2 Mukhi Rudraksha ) आपके अपने लोकल बाजार से ले सकते हैं लेकिन ऐसी दुकान से ही लें जो कई पीढ़ियों से यही कार्य कर रहे हों जिससे आपको ओरिजनल रुद्राक्ष मिल सके क्योंकि बाजार में 2 मुखी रुद्राक्ष के नाम पर कई नकली प्लास्टिक के या फिर रुद्राक्ष जैसे दिखने वाले भद्राक्ष भी मिल रहे हैं | अगर आप ऑनलाइन मंगवाना चाहते हैं तो आप mygyanalaya.in वेबसाइट से मंगवा सकते हैं | जो तीन पीढ़ियों से इस क्षेत्र में कार्य कर रहे हैं और आज इनकी सेवाएं Online भी उपलब्ध हैं | साथ में यहां पर आपकी सहायता के लिए निशुल्क पंडित जी हेल्पलाइन भी मिल जाती है| जहां से आप देश के अनुभवी पंडित जी से संपर्क करके, रुद्राक्ष से जुड़ी अन्य सहायता भी ले सकते हैं|

2 मुखी रुद्राक्ष (2 mukhi rudraksha) कैसे धारण करें |

२ मुखी रुद्राक्ष ( 2 Mukhi Rudraksha ) को धारण करने की विधि अन्य रुद्राक्ष के ही समान है आप इसे 24 घंटे के लिए घी में डुबा कर और फिर 24 घंटे के लिए गाय के दूध में डुबा कर रख कर इसकी कंडीशनिंग करें इसके बाद आप इसे लाल या पीले धागे में डाल कर धारण कर सकते हैं |

रुद्राक्ष (rudraksha)धारण करने के बाद आपको क्या क्या सावधानियां बरतनी है इसके लिए आप हमारी यह वीडियो देख सकते हैं |

People Also Ask ;-

प्रश्न क्या हम रुद्राक्ष पहनने के बाद non beg अर्थात मांसाहारी भोजन खा सकते हैं|

उत्तर- नहीं खा सकते, क्योंकि इससे रुद्राक्ष का प्रभाव कम हो जाता है | रुद्राक्ष की सात्विक प्रकृति होती है वहीं मांसाहारी भोजन तामसिक या राजसी होती है | जो को सात्विक प्रकृति की विरोधी है |

प्रश्न-  टॉयलेट या शौच जाते समय रुद्राक्ष को उतारना चाहिए |

उत्तर- आपको रुद्राक्ष उतारने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि इससे रुद्राक्ष पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता| परंतु ध्यान रहे अगर आप नहाने जा रहे हैं तो आप रुद्राक्ष को साबुन और शैम्पू से दूर रखें | उत्तम यह रहेगा की आप नहाने से पहले रुद्राक्ष को उतार दें | जिससे यह इन रसायनों के संपर्क में ना आए |

प्रश्न – रात में सोते समय रुद्राक्ष  पहन सकते हैं?

उत्तर- जी हां आप रुद्राक्ष पहन सकते हैं | आपको सोने से पहले रुद्राक्ष उतारने की आवश्यकता नहीं है|